परमाणु को कौन बांधे रखता है

परमाणु के दो भाग होते है परमाणु क्रेन्द्रक में , प्रोटान और न्यूट्रॉन और उसके चारो ओर इलेक्ट्रान चक्कर लगाते है। परमाणु केन्द्र पर धनात्मक आवेश होता है और विद्युत-चुंबकीय बलो के कारण इलेक्ट्रान उसके चारो ओर चक्कर लगाते है।
Third party image reference
अब सवाल ये उठता है कि परमाणु केन्द्र को कौन बांधे रखता है?
यह समझने के लिए हमें केन्द्र के प्रोटान और न्यूट्रॉन का निर्माण करने वाले क्वार्क के बारे में और जानना होगा। क्वार्क के पास विद्युत-चुंबकीय आवेश होता है साथ ही उनमें एक और आवेश रंग आवेश होता है। रंग-आवेशित कणों के मध्य का बल अत्यधिक मजबूत होता है इसलिए इसे मजबूत नाभिकीय बल कहा जाता है।
मजबूत नाभिकीय बल क्वार्कों को बांध कर हेड्रान बनाता है, इसलिए इसके बलवाहक कणों को ग्लुआन कहते हैं क्योंकि वे क्वार्कों को गोंद के जैसे एकसाथ चिपका कर रखते हैं।
क्वार्क के बीच रंग आवेश होता है लेकिन क्वार्क से बने यौगिक कणों के बीच रंग-आवेश नहीं होता है । इसी कारण से मजबूत नाभिकीय बल केवल अत्यंत सूक्ष्म स्तर के क्वार्क प्रतिक्रियाओं में भाग लेता है।
नाभिक के अंदर प्रोटोन और न्यूट्रॉन को जोड़ने का काम भी नाभिकीय बल करता है ये एक दुसरे को पाई मेसोन्स नामक कण एक्सचेंज करते हैं और जब तक ये एक्सचेंज होता रहता है प्रोटोन और न्यूट्रॉन एक दुसरे से जुड़े रहते हैं। और अधिक जानकारी के लिए विडियो देखे:-
Original

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *